Best Hindi sex stories

Sab se achi Indian Hindi sex kahaniya!

दोस्त मेरी पत्नी का ख्याल रखना


Antarvasna, bhabhi sex stories गर्मियों की छुट्टियों में जब हम लोग अपने गांव गए थे हमारे साथ हमारी 10 वर्ष की लड़की भी थी और हम लोग कुछ दिन गांव में ही रहने वाले थे। हम लोगों को अब शहर की आदत हो चुकी थी इसलिए गांव में एडजेस्ट करना थोड़ा मुश्किल हो रहा था लेकिन फिर भी अपने पुश्तैनी मकान में इतने वर्ष बाद आने के बाद अच्छा लगा। हमारा घर पूरा मिट्टी का बना हुआ था इसीलिए घर में अब भी पुरानी चीजें रखी हुई थी मेरी पत्नी ममता कहने लगी केशव तुम्हें याद है जब हम लोग पहली बार नदी किनारे मिले थे। हमारे गांव से होकर ही नदी गुजरती है हमारा गांव बनारस के पास ही है और जब पहली बार मैं ममता से नदी किनारे मिला था तो वह लोग वहां पर कपड़े धो रहे थे। आज से कई वर्ष पुरानी बात है मेरी आंखों के सामने जैसे वही पुराना चलचित्र आ गया था जो कि पहले मेरे साथ हकीकत में हुआ था जब मैंने ममता को पहली बार देखा था।

जब पहली नजर में ही मेरे दिल से आवाज आई थी कि ममता के साथ मुझे शादी करनी है लेकिन जब मुझे ममता के बारे में पता चला तो मैंने अपने दिल से शादी का ख्याल निकाल दिया था क्योंकि ममता के पिताजी हमारे गांव के पास वाले गांव के एक बड़े जमींदार थे और मुझे नहीं लगता था कि ममता से कभी मेरी बात भी हो पाएगी। मैं उस वक्त पैदल ही गांव से बनारस कॉलेज पढ़ने के लिए जाया करता था और ममता ने भी उस वक्त अपने प्रथम वर्ष में दाखिला लिया। मैं ममता को हमेशा देखा करता था क्योंकि ममता के गांव से होकर ही मुझे पैदल जाना पड़ता था इसलिए जब भी ममता मुझे देखती तो वह शरमा जाती थी शर्म भी औरत का गहना होता है और वह शर्माती हुई बहुत अच्छी लगती थी। मैंने ममता को अपने दिल से स्वीकार कर लिया था और ममता से पहली बार मैंने अपने दिल की बात प्रेम पत्र के माध्यम से लिखी थी शायद ममता मेरा प्रेम पत्र पढ़कर अपने आपको ना रोक सकी और उसने अपनी सहेली के हाथ मुझे प्रेम पत्र भिजवाया। जब उसने अपनी सहेली के हाथ मुझे प्रेम पत्र भिजवाया तो उसमें लिखा था कि मैं तुमसे शादी करना चाहती हूं। उस पूरे पत्र को मैंने दो बार पलट कर देखा तो उसमें सिर्फ इतना ही लिखा था कि मैं तुमसे शादी करना चाहती हूं मैं अब ममता की प्रति पूरी तरीके से वफादार था और उससे मैं शादी करना चाहता था।

हमारे आगे सिर्फ और सिर्फ ममता के पिताजी की वही पुरानी सोच आई गांव में अब हम दोनों के प्यार के चर्चे आग की तरह फैल चुके थे उस गांव में कोई मनोरंजन का साधन नहीं था तो इसलिए हम दोनों के प्यार के चर्चे ही पूरे गांव में चलते रहते थे। मैंने ममता को पाने के लिए ना जाने क्या-क्या किया लेकिन उसके पिताजी कभी भी मुझसे उसकी शादी कराना ही नही चाहते थे। आखिरकार एक दिन ममता के पिता जी मुझसे उसकी शादी कराने के लिए मान ही गए क्योंकि मेरी शहर में अच्छी नौकरी लग चुकी थी और उसके पिताजी को भी एहसास हुआ कि मैं ममता को खुश रखूंगा इसीलिए उन्होंने मुझसे ममता की शादी करवा दी। अब हम दोनों शादी के बंधन में बंध चुके थे तो मैंने ममता को अपने साथ शहर ले जाना ही मुनासिब समझा मेरे माता-पिता गांव में ही रहा करते थे मैं शहर में ममता के साथ रहने लगा था। उसके दो वर्ष बाद हमारी बेटी हुई हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत खुश थे और मुझे ममता का साथ मिल चुका था कुछ ही समय बाद मैंने अपने माता पिता को भी अपने पास बुला लिया और मैंने शहर में ही एक मकान खरीद लिया। अब हम लोग वहीं रहते हैं लेकिन जब मैं गांव में आया तो अभी भी पुरानी यादें जैसे वही थी और पुरानी यादें जैसी ताजा होने लगी थी। मैं और ममता जब इस बारे में बात करते तो मुझे बहुत अच्छा लगता है और एक सुखद एहसास की अनुभूति होती ममता भी कहने लगी कि हम मां से मिल आते है। मैंने ममता से कहा ठीक है हम लोग कल उनसे मिलने चलेंगे आज तो काफी शाम हो चुकी है और अगले ही दिन हम लोग ममता की मां से मिलने के लिए चले गए। ममता के मां बाप घर में अकेले ही रहते है उनके दोनों लड़कों की शादी के बाद वह दोनों विदेश में चले गए इसलिए ममता की मां घर में अकेली रह गई हैं। उनके पास पैसे की कोई कमी नहीं है और घर में चार नौकर हैं लेकिन फिर भी मेरी सासु मां को अकेले पन का एहसास सताता रहता है और उन्होंने ना चाहते हुए भी मुझसे आखिरकार अपने दिल की बात कह ही दी कि मैं अकेली बहुत परेशान हो चुकी हूं।

मैंने उन्हें कहा कि आप हमारे साथ शहर क्यों नहीं चलती वह कहने लगी अब इस बुढ़ापे में मैं शहर कहां जाऊंगी गांव में ही हमारी पुरानी यादें आज भी ताजा हैं और हम शहर नहीं जाना चाहते। उस दिन हम लोग वहीं रुक गए और मेरी बच्ची भी बहुत खुश थी अगले दिन हम लोग अपने गांव लौट आए जब हम अपने गाँव लौट आये उस समय काफी तेज तूफान चल रहा था और तूफान इतना तेज चलने लगा कि कुछ देर बाद आसमान में बिजली भी कड़कने लगी और मौसम पूरा खराब हो चुका था। मिट्टी आंखों में बड़ी तेजी से जा रही थी और हमारा मकान का एक हिस्सा टूट गया मैंने अपने पिताजी को फोन किया तो वह कहने लगे बेटा मैं कल गांव आ जाऊं तो मैंने उन्हें कहा नहीं पिताजी आप रहने दीजिए मैं देखता हूं। मैंने उस टूटे हुए हिस्से का काम शुरू करवा दिया और कुछ ही दिनों बाद वह दोबारा पहले जैसा ही हो गया हमारे गांव के चाचा मुझे जब मिले तो वह कहने लगे बेटा तुम कई वर्षों बाद दिख रहे हो, कैसे हो?  तुम बिल्कुल पहचान ही नहीं आ रहे हो। जब उन्होंने मुझे यह बात कही तो मैंने उन्हें कहा चाचा आप कई वर्ष भी तो हो चुके है और गांव में अभी कुछ नहीं बदला है वैसे ही कच्ची सड़कें और कुछ भी गांव में नहीं बदला है।

चाचा कहने लगे बेटा गांव में भला क्या बदलेगा मैंने चाचा से पूछा घर में सब लोग ठीक हैं तो चाचा कहने लगे हां केशव घर में सब ठीक हैं तुम घर पर आना। चाचा का लड़का मेरा हम उम्र है और वह मेरा बहुत अच्छा दोस्त भी था मैंने सोचा कि मैं उससे मिलने के लिए चल लेता हूं। जब मैं उससे मिलने के लिए गया तो मैंने उसकी स्थिति देखी तो मैं दंग रह गया क्योंकि वह नशे का इतना आदी हो चुका था कि वह मुझे अच्छे से पहचान ही नहीं पाया उसका रंग भी पूरा काला हो चुका था और वह पहले जैसा बिल्कुल भी नहीं था। चाचा ने मुझे कहा कि बेटा बैठो, जब मैं घर में बैठा तो मदन की पत्नी मेरे लिए पानी लेकर आई चाचा ने कहा कि यह मदन की पत्नी है। चाचा ने जब मुझसे मदन के बारे में कहा कि मदन पूरी तरीके से शराब के नशे में डूब चुका है और वह किसी की बात नहीं सुनता तो मैंने सोचा कि मदन से बात की जाए लेकिन मदन तो जैसे किसी की बात सुनने तक को तैयार नहीं था। मदन की पत्नी बहुत ज्यादा परेशान थी और वह चहती थी की मदन के साथ वह अच्छे संबंधों को बनाए लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया क्योंकि मदन तो नशे में चूर रहता था। मदन की पत्नी मेरी तरफ अपनी नजरें जमाए हुई थी ताकि मैं उसकी इच्छा को पूरा कर सकूं और आखिरकार मैंने उसकी इच्छा को पूरा करने का फैसला कर लिया था। वह मेरे लिए बहुत तड़प रही थी उसे ना जाने किसी का प्यार क्यों नहीं मिल पाया था। जब मैंने मदन की पत्नी को चुंबन किया तो वह पूरी तरीके से तड़पने लगी थी उसकी तड़प बहुत बड गई। एक दिन मदन ने मुझसे कहा कि मेरी पत्नी तुम्हारे लिए बहुत तडपती है मैं इस बात से चौक गया मदन नशे में चूर था उसे सब मालूम था।

उसे इस बात का आभास था की वह अपनी पत्नी के साथ कुछ भी नहीं कर सकता इसलिए उसने मुझे कहां तुम मेरी पत्नी का ध्यान रखना। उसने जब यह बात मुझसे कहीं की तुम मेरी पत्नी का ध्यान रखना। उस दिन मदन के घर मे उसकी पत्नी के स्तनों को मैंने दबाना शुरू किया वह तो पहले से ही मेरे साथ पूरी तरीके से अंतरंग संबंध बनाने को तैयार हो चुकी थी। उसने जब मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरु किया तो वह पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुकी थी। उसने मेरे लंड को काफी देर तक अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू किया जब मेरे लंड से पानी निकलने लगा तो वह कहने लगी आपके लंड से तो पानी निकल आया है। मैं भी उत्तेजित हो चुका था मैंने भाभी की  चूत को चाटना शुरू किया तो मुझे बड़ा मजा आने लगा और आखिरकार में पूरी तरीके से उत्तेजित हो चुका था।

जब मैंने अपने लंड को मदन की पत्नी की योनि में प्रवेश करवाया तो वह चिल्लाने लगी और कहने लगी मुझे तुम्हारे लंड को लेने में मजा आ रहा है। भाभी ने अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर लिया मेरे लंड पूरा अंदर तक जा रहा था जिससे कि मुझे पूरी तरीके से जोश चढ़ने लगा था। मैंने भाभी कि योनि के अंदर बाहर अपने लंड को करना शुरू कर दिया वह पूरी तरीके से जोश में आ चुकी थी और आखिरकार उसने मुझे कहा कि तुम अपने माल को मेरी योनि में गिरा दो। भाभी ने अपनी चूत को टाइट कर लिया उसके बाद जब मैं धक्के मारता तो उसे मजा आने लगता लेकिन मैं ज्यादा समय तक मे धक्के ना मार सका। मेरा माल बड़ी तेजी से भाभी की चूत में गिर गया। उसके बाद वह खुश हो चुकी थी। मैने दोबारा से भाभी को चोदना शुरु किया मैंने अपने लंड को चूत मे घुसाते हुए कहा कि भाभी तुम्हे चोदना मे मजा आ रहा है। वह कहने लगी आपने मेरी चूत मार रहे है तो मुझे अच्छा लग रहा है। भाभी ने अपने दोनों पैरों को चौड़ा कर लिया जब उन्होने अपने दोनों पैरों को चौड़ा किया तो मुझे उसे चोदने में बड़ा मजा आ रहा था। वह मेरा साथ बड़े अच्छे से दे रही थी जिस प्रकार से उन्होने मेरा साथ दिया उससे मुझे लगा कि वह खुश है।

Best Hindi sex stories © 2017
error:

Online porn video at mobile phone


free sex storieslatest sex story???? ?? ?????hindi antarvasna photossuhagraatantarvasna kamuktasex stories in englishhindi sexy storyhindisex story??antarvasna 3gpantarvasna free hindi storygroupsexindian sexxsuhagrat antarvasnanew hindi sex storyjugadhindi sex kahaniantarvasna mami ki chudaisex story hindi antarvasnakamukata.comsex with cousindesi sex blogindian sex stories in hindiantarvasna oldindian sex storieachudai ki storynew desi sexthamanna sexchachi ko chodaantervasanasexy stories in hindim.antarvasnaindian erotic storiesantarvasna padosanantarvasna photosantarvasna hindi story newbur chudaiyoutube antarvasnaantarvasna gay videosexi kahanirakul sexindian gaandantarvasna behanmastram ki kahanifree antarvasna storyxxx story in hindinew antarvasna 2016savita bhabhi hindiindian group sexantarvasna com hindi kahanijabardasti chudaisexxdesiantarvasna filmdesi sexy storiesantarvasna hinde storeantarvasna full storyantarvasna com kahani???sexkahaniyahindi antarvasnasavita babhiindian lundindian sex storyhindi antarvasna storyantarvasna antarvasnaamerica ammayi ozeeantarvasna hindi sex stories appsucksexindian srx storiessex khanisexbfchachi ki chudai antarvasnadesi sex storyindian incest sexantarvasna sex image